LIPI (NEW SCRIPT)

 

होड़ो सेंणा लिपि हिंदी के साथ ही मुण्डारी भाषाओं के लिए भी उपयुक्त है  !

#आॅस्टो-एशियाटिक भाषा परिवार को #आॅस्ट्रिक या #आग्नेय परिवार भी कहते हैं । इसके दो मुख्य वर्गों में से पश्चिमी वर्ग को मुण्डारी भाषा समूह कहते हैं। मुण्डारी भाषा समूह के तीन मुख्य भाषाओं ‘ मुण्डारी ‘ , ‘ संथाली और  ‘ हो ‘ की समानताओं को देखने पर स्पष्ट पता …
Read More

देवनागरी लिपि का विकास

#देवनागरी #लिपि का #विकास #ब्राह्मी लिपि का #संशोधित और #परिष्कृत रूप देवनागरी लिपि है। यह उस समय की आवश्यकता और सुविधा को ध्यान में रख कर की गई थी जब यह बनी थी । अब देवनागरी लिपि एक हजार साल से अधिक पुरानी हो चुकी है। देवनागरी लिपि हिंदी की …
Read More

लिपि शोधन की आवश्यकता है

#लिपि #शोधन की आवश्यकता है  ! पत्तों, कागजों और ताम्रपत्रों पर लिखे हजारों #प्राचीन लिपियों में लिखे #पांडुलिपियों को #लिपि विशेषज्ञ नहीं पढ़ पा रहे हैं। इसका कारण सिर्फ यही है कि पहले की लिपियाँ #अल्पविकसित या #अविकसित हैं। कुछ ऐसी #अल्पविकसित या #अविकसित #लिपियाँ अभी भी प्रचलन में हैं। …
Read More

HINDI LETTERS / HINDI ALPHABETS

HINDI  LETTERS या HINDI ALPHABETS का अर्थ है अक्षर या वर्ण । वास्तव में यह SCRIPT है। हिन्दी देवनागरी लिपि  (DEVNAGRI SCRIPT) में लिखा जाता है।   स्वर वर्ण अ आ इ ई उ ऊ ऋ ए ऐ ओ औ अं अः व्यंजन वर्ण क ख ग घ ङ च …
Read More

होड़ो सेंणा लिपि

  होड़ो सेंणा लिपि HODO SENA LIPI देवनागरी लिपि से  विकसित लिपि है .यह DEVNAGRI LIPI की अपेक्षा आसान है .टाइपिंग में देवनागरी के 140 और होड़ो सेंणा के मात्र 45 संकेत चिह्नों की  आवश्यकता होती है .होड़ो सेंणा लिपि में कुछ अतिरिक्त ध्वनि चिह्न जोड़ कर अन्य INDIAN LANGUAGES …
Read More

बाल पोथी

script सीखने में आसानी करे | …
Read More

कहानियाँ / STORIES

दिल पत्थर का और शरीर फौलाद का / Heart stone and body stealer

वह हडिया दारू पीता हैं |इसका मतलब ऐसा नहीं कि वह हर समय नशे में रहता हैं | आप उसे कभी सुबह- कभी शाम और कभी रात  को पिये हुए पाईयेगा | नशा पीकर वह गाली गलौज और मार पीट कर सकता हैं | ऐसे समय में वह अपने आप …
Read More

सावधान / Careful

बचपन में एक बार चार आने का टिकट ले कर चलती फिरती चिड़िया घर में पशु पक्षिओं को देखने गया था | …
Read More

जीने की राह / Way to live

खान सुरक्षा सप्ताह बीते अभी एक सप्ताह भी नही हुआ हैं | कितनो के सिर से हेलमेट उतर गए | साफ्टी बूट की  जगह चप्पल ने ले ली | इनको देख कर उसे अफ़सोस होता हैं , आज आदमी का क्या हाल हैं ? दिल और दिमाग का ताल – …
Read More

अँधेरी रात / Dark night

सोमरा नाईट शिफ्ट ड्यूटी जा चुका हैं | मंगरी सोने की तैयारी में हैं | उसके चार बच्चे पलंग पर गहरी नींद में सो चुके हैं | …
Read More

पड़ाव

शाम के चार बज चुके हैं | खिड़की खुली है और पीली निस्तेज -सी धूप का एक चौकोर टुकड़ा दीवाल से चिपका हुआ हैं | …
Read More

 

 

 

लेख / ARTICLES

होड़ो सेंणा लिपि को क्यों अपनाएँ ?/ Why do you adopt the Hodo Senna script?

     आस्ट्रो – एशियाटिक भाषा परिवार को आस्ट्रिक या आग्नेय परिवार भी कहते हैं | इसके दो मुख्य वर्गों में से पश्चिमी वर्ग को मुंडारी भाषा समूह कहते हैं | …
Read More
/

रोमन लिपि और हिंदी / Devnagri script and Hindi

देवनागरी लिपि ने रोमन लिपि से कहा – जरा लिख कर दिखाओ “ चांगे थे पोले “ | रोमन लिपि ने लिखा “ change the pole “ ( चेंज द …
Read More
/

अभिव्यक्ति / Expression

आपने बहुत सारी कहानियां ,कवितायेँ पढ़ी होंगी | उनसे प्रभावित भी हुए होंगे | आये दिन देश –विदेश के समाचारों से आपका मन भी आंदोलित होता होगा | अपने शहर …
Read More
/

अब्राहम लिंकन / 16th President of the United States

अमेरिका के भूतपूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का नाम आपने सुना होगा | उनकी जीवनी से प्रभावित भी हुए होंगे | उनका जन्म 12 फरवरी 1809 को एक गरीब अश्वेत परिवार …
Read More
/

आत्म सम्मोहन / Self Hypnosis

अपने दुर्गुणों से कैसे छुटकारा पायें ? अशांत मन को शांत कैसे करें ? अपनी कार्य क्षमता को कैसे बढ़ाएं ? चैन की नींद कैसे पायें ? नकारात्मक विचारों से …
Read More
/

कहानी कैसे लिखें ?/ How to Write a Story

“ एक प्रतापी राजा मर गया ” आप कहेंगे यह तो एक साधारण सा वाक्य है .कोई सुविचार भी नहीं .किसी महापुरुष की उक्ति भी नहीं .फिर यह कहानी कैसे …
Read More
/

स्वास्थ्य / HEALTH

प्राकृतिक चिकित्सा || Naturopathy

  प्राकृतिक चिकित्सा Naturopathy बहुत प्राचीन इलाज का तरीका है | इसकी शुरुआत ईसा पूर्व 460 से 377 के बीच हुई थी | हिपोक्रेटीज ने इसी पद्दति का प्रचार जीवन …
Read More

शरीर का सिस्टम कैसे ठीक काम करता है ?/ How does the body system work properly?

एक कहावत है जान है तो जहान है ! इसके लिए जरूरी है HEALTH CARE ,POLUTION मुक्त FRESH AIR , अच्छा साफ़ पीने का पानी ( DRINKING WATER ) , …
Read More

ज्योतिष / ASTROLOGY

जन्म -कुंडली क्या है ? / HOROSCOPE

बच्चा/ बच्ची के जन्म के समय आकाश में ग्रहों की स्थिति  किस राशि में है. यही जन्म कुण्डली में दर्शाया  जाता है . थोड़ा और विस्तार से जानें.    नौ …
Read More

रत्न-क्या-है ? / GEM STONES

   आम तौर पर जो नगीने अंगूठी और लॉकेट में ज्योतिषीय सलाह के अनुसार पहने जाते हैं ,उसे रत्न कहते हैं . इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि …
Read More

वास्तु / घर / APARTMENT / HOME

   वास्तु घर के विज्ञानं को कहते हैं .और अपार्टमेंट किसी इमारत के कमरों के सैट को कहते हैं .    किसी मकान में जब पांचों तत्वों का सही समायोजन …
Read More

संगीत

बेतरह शमअ से परवाने

बेतरह शमअ से परवाने इश्क करते हैं अपनी चाहत में ये दीवाने मर ही मिटते हैं जख्म पाई है जो वो वक्त की परछाई है घाव भर जाएंगे सारे ये जितने रिसते हैं लोग मतलब के लिए जोड़ते रिश्ते नाते हैं बात इतनी बुरी ये मतलब के वक्त दिखते हैं …
Read More

नैनों के तरकश में तीर

नैनों के तरकश में तीर रहने तो दो काम आयेंगे फिर जरा सम्हलने तो दो राहगीरों को तो राह नहीं सूझेगा स्याह जुल्फों को अब जरा बिखरने तो दो दीवानगी की हद का तो अभी पता नहीं अरमानों को अब जरा मचलने तो दो गुनहगार हथकड़ी में जकड़ा जाएगा काली …
Read More

एतराज है अगर

एतराज है अगर नाम तेरा दिल से मिटा दूँ तुम कहो तो सही तस्वीर घरौंदे की मिटा दूँ मौसम ने खायी है कसम आते हैं सर्द झोंके तुम कहो तो सही कंडे मैं दो -चार जुटा दूँ किसी की क्या मजाल जो खुशी के उद्गार को रोके तुम कहो तो …
Read More

जब भी नये कपड़ों में

जब भी नये कपड़ों में रूप तेरा निखरता होगा तारीफ करने वालों का ना होना अखरता होगा मैंने तो बरसों पहले ही तेरी तारीफ सुनी थी हवाओं में भी अब तो नाम तेरा बिखरता होगा मात खा गया बहार का शबाब भी सामने तेरे फूल भी जूड़े में तेरे लगने …
Read More

अंगडा़ई पे अंगडा़ई

अंगडा़ई पे अंगडा़ई लेती अरमाँ तनहाई में जीवन के सुर ढूँढे दीवानी आज किसी शहनाई में दूर पपीहा टेर लगाए सारी दुनिया सुनती है सपने सँजोए डूब चुकी वो यादों की गहराई में कितनी घड़ियाँ बाकी है अब रात मिलन की आने में खामोशी की चादर ओढ़े वादों की भरपाई …
Read More

विषमताएं कब से बढ़ती रही हैं

विषमताएं कब से बढ़ती रही हैं मान्यताएँ सड़ती -गलती रही हैं अट्टालिकाएँ शान से खड़ी हैं कहीं फर्श धरती, छत ही नहीं है घनघोर बारिश, तूफान भी है लाचार खड़ा इन्सान ही है कसीदे कढ़े हैं चमकती जरी है कहीं तन खुले हैं, आँचल नहीं है खाना नहीं है, दाना …
Read More

बदला है रूप तुमने ये नयी

बदला है रूप तुमने ये नयी कोई खबर नहीं गली -गली चर्चा तेरी बचा कोई शहर नहीं मिले गले से गले दिल मिल पाये कहाँ प्यार मुहब्बत की रही अब कोई डगर नहीं गरीबी आम जनता की कैंसर बनेगी एक दिन नियति है बेमौत मरना यहाँ कोई अमर नहीं आतंक …
Read More

दुविधा में आज हम

दुविधा में आज हम ऐसे खड़े हैं सामने विकल्प जहाँ बहुत से पड़े हैं कहीं छप्पर से तारे नजर आते हैं और कहीं छत में सितारे जड़े हैं नौकरी मिलती नहीं ज़िन्दगी भर में मिली जिनको हैं वे नशे में पड़े हैं खाद के लिए बैल पाले गये हैं खेत …
Read More

दिल के दरवाजे में

दिल के दरवाजे में तेरे कोई दरवान न था डरता रहा हाथों में मेरे कोई फ़रमान न था आँखों के रस्ते दिल में उतरना बहुत बड़ी बात है यह मेहरबानी रही तेरी वरना आसान न था गर्दिशे दौराँ में लोग कतरा के निकल जाते थे देखी बेरुखी ऐसी कि लगे …
Read More

निबौली शहद -सा लागे है आज

निबौली शहद -सा लागे है आज पिया आजा ,  पिया आजा कागा मुँडेर पे बोले है आज पिया आजा  , पिया आजा सामने दर्पण के खुद को भूल गई गलती से सालन में काजल डाल गई ठिठोली में सखियों से साँच बोल गई धड़कन जिया की सताए है आज  । …
Read More