आत्म सम्मोहन / Self Hypnosis

अपने दुर्गुणों से कैसे छुटकारा पायें ?

अशांत मन को शांत कैसे करें ?

अपनी कार्य क्षमता को कैसे बढ़ाएं ?

चैन की नींद कैसे पायें ?

नकारात्मक विचारों से मुक्ति कैसे पायें ?

सकारात्मक कैसे बनें ?

ईर्ष्या द्वेष की भावना से बाहर कैसे निकले ?

मन कैसे एकाग्र होगा ?

सफलता कैसे पायें ?

अच्छा इन्सान कैसे बनें ?

तनाव से मुक्ति कैसे पायें ?

आत्म विश्वास कैसे बढ़ाएं ?

ऊपर लिखे सभी सवालों का समाधान है आत्म सम्मोहन या ओटो सजेशन | यह एक मनोवैज्ञानिक प्रयोग है | यह बच्चे से ले कर बूढ़े तक सभी के लिए परम उपयोगी है | अब आप जानें कि यह चमत्कारी उपाय है क्या ? विश्व के सभी सफल लोगों  के पीछे की कहानी यही है | यह बात है न अविश्वसनीय !

आत्म सम्मोहन का तरीका –

यह आपको रात में सोते समय करना है | बिस्तर में सोते समय अपनी आँखें बंद कर अपने शरीर को एकदम ढीला छोड़ देना है | इसके लिए आप सोचें कि मेरा अंग – प्रत्यंग शिथिल होता जा रहा है | जब आपको लगे कि आपका शरीर किसी निर्जीव शरीर की तरह हो गया है तब मन में उस चीज की सजीव कल्पना करें जो आप चाहते हैं | जैसे आप अपनी सच्ची फिल्म देख रहे हों | उदाहरण के तौर पर समझें कि आप किसी ऐसे काम को कर रहे हैं जिससे आपको काफी ख्याति मिलेगी | लेकिन सफलता नहीं मिल रही है | तो ऐसी सजीव कल्पना कीजिए कि एक बड़ी सभा में देश के सभी नामचीन लोग उपस्थित हैं और आपको सम्मानित किया जा रहा है | प्रेस मीडिया सभी उपस्थित हैं | माइक से एनाऊन्समेंट हो रहा है | आपकी तारीफ़ हो रही है | यही कल्पना वाली फ़िल्म  चलाते रहिये | देख कर आनंदित होते रहिये | कुछ देर बाद आपको नींद आ जाएगी | सुबह जब उठेंगे तो काफी तरोताजा महसूस करेंगे और अपने को पॉजिटिव पायेंगे | यही हर रोज रात को सोते समय करना है | कुछ समय बाद आपको निश्चित ही सफलता मिल जायेगी |

असल में होता यह है कि हमारे दो मन हैं | पहला चेतन मन है जिससे सारे काम –काज , बोल –चाल जाग्रत अवस्था में करते हैं | दूसरा हमारा अवचेतन मन है जो भावनाओं को संचालित करता है | जब हम सो जाते हैं तब यह अवचेतन मन सक्रिय रहता है | नींद आते समय जब हम अर्ध सुप्तावस्था में होते हैं | याने नींद आने से लगभग पांच मिनट पहले के ऐसे होते हैं जब आप चेतन मन की बातें /सलाह /इच्छा इत्यादि अपने अवचेतन मन को भेज देते हैं | यही बातें बाद में हमें जाग्रत अवस्था में अन्दर से निर्देश देते रहते हैं | और हम जो चाहते हैं वह होने लगता है |

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of