रत्न-क्या-है ? / GEM STONES

   आम तौर पर जो नगीने अंगूठी और लॉकेट में ज्योतिषीय सलाह के अनुसार पहने जाते हैं ,उसे रत्न कहते हैं . इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि नगीने का नीचे का हिस्सा शरीर से स्पर्श करता रहता है . ये नगीने कई रंगों के होते हैं . वास्तव में ये रत्न नौ ग्रहों के किरणों के संवाहक होते हैं . और किसी खास ग्रह की किरण को अवशोषित करते हैं .

               नौ ग्रह रत्न

  1 . माणिक्य (रूबी) - माणिक्य सूर्य का रत्न है .यह एक खनिज है  . इसे तराश कर अंगूठी या लॉकेट में जड़ने योग्य बनाया जाता है .यह गुलाबी रंग का होता है .

  भौतिक गुण :– कठोरता – 9, आपेक्षिक घनत्व – 4.03 ,वर्तनांक –1.716 , दुहरा वर्तन – 0.008 , द्विवर्णिता –तीव्र .

  रासायनिक रचना –एलुमिनियम ऑक्साइड .

2 . मोती (पर्ल ) – मोती चंद्र का रत्न है . जल में रहने वाले सीप के अन्दर इसका निर्माण होता है .यह पत्थर या खनिज नही है . मटर के गोल दाने की तरह यह पाया जाता है .

  भौतिक गुण – आपेक्षिक घनत्व – 2.65 से 2.89 तक . कठोरता – 3.8 –4 .

  रासायनिक गुण – कैल्सियम कार्बोनेट .

  1. मूंगा (कोरल ) – मूंगा मंगल ग्रह का रत्न है .यह पत्थर नही है .समुद्र के अन्दर खास जंतुओं के द्वारा इसका निर्माण होता है .

रासायनिक गुण –यह भी मोती की तरह कैल्शियम कार्बोनेट है .

  1. पन्ना (एमराल्ड ) – पन्ना बुध ग्रह का रत्न है .यह एक खनिज है .यह एक खनिज है .यह हरे रंग का होता है .

भौतिक गुण – कठोरता –7.75 . आपेक्षिक घनत्व –2.69 –2.8 , वर्तनांक –1.57 , अपकिरण – 0.014 .

  5 . पुखराज (टोपाज ) – पुखराज गुरु ग्रह का रत्न है .यह पीले रंग का होता है .यह एक खनिज है .

भौतिक गुण –कठोरता – 8 , आपेक्षिक घनत्व – 6.53 ,वर्तनांक –1.61 ,दुहरा वर्तन – 0.008 ,और अपकिरण – 0.014होता है .

  6 .हीरा (डायमंड ) – हीरा शुक्र ग्रह का रत्न है . यह पारदर्शी होता है . यह खनिज रत्न है . भौतिक गुण – कठोरता – 10 , आपेक्षिक घनत्व 3.4 , वर्तनांक – 2.417 ,अपकिरण – 0.44 ,रासायनिक गुण – यह कार्बन का शुद्ध रूप है .

  7 .नीलम (सेफायर ) –नीलम शनि ग्रह का रत्न है .यह एक खनिज रत्न है . यह बहुत जल्द असर करता है .

भौतिक गुण –कठोरता – 9, आपेक्षिक घनत्व – 4 .03 ,वर्तनांक – 1 .76 , दुहरा वर्तन – 0.008.

  8 .गोमेद (जिर्कोनी ) –गोमेद राहु का रत्न है .यह एक खनिज रत्न है . यह गो मूत्र के रंग का होता है .

भौतिक गुण –कठोरता – 7.5 , आपेक्षिक घनत्व – 4.65. वर्तनांक— 1.93 –1.98. दुहरा वर्तन – 0.006 , अपकिरण – 0.048.

  9 .लहसुनिया (कैट्स आई ) – लहसुनिया या वैदूर्य केतु का रत्न है .यह खनिज रत्न है .यह बिल्ली के आंख की तरह चमकता है .

भौतिक गुण –आपेक्षिक घनत्व – 3 .68 से 3 .78 तक .कठोरता –8.5. वर्तनांक –1.75 .दुहरा वर्तन – 0 .01 , अपकिरण – 0 .015 .

             कौन सा रत्न किसके लिए ?

  कौन सा रत्न किसे पहनना चाहिए यह जानना आवश्यक है . सूर्योदय के बाद हर दो घंटे में कुंडली का लग्न बदलता है .यों समझिये कि ग्रहों की स्थितियां राशियों में यथावत रहने पर भी लग्न बदलने पर जातक को कौन सा रत्न पहनना चाहिए इसका निर्णय बदल जाता है .यह निर्णय बहुत सटीकता से होता है . और अगर जन्म चंद्र राशि के अनुसार निर्णय लें तो लगभग सवा दो दिन तक चंद्र एक ही राशि में रहता है .

        जन्म कुंडली के अनुसार रत्नों का निर्णय

    लग्न          भाव          ग्रह            रत्न

  1. मेष — लग्नेश —–  मंगल   —  मूंगा

              पंचमेश —–  सूर्य  — माणिक्य

              नवमेश   —  गुरु   — पुखराज

  1. वृष — लग्नेश   —  शुक्र   —  हीरा

              पंचमेश   —  बुध    —  पन्ना

              नवमेश   — शनि    — नीलम

  1. मिथुन — लग्नेश — बुध    —   पन्ना

             पंचमेश   — शुक्र      — हीरा

             नवमेश   — शनि     — नीलम

  1. कर्क — लग्नेश   —  चंद्र     —  मोती

            पंचमेश  —-  मंगल   —  मूंगा

             नवमेश   — गुरु  —  पुखराज

  1. सिंह — लग्नेश — सूर्य  —  माणिक्य

             पंचमेश —   गुरु   — पुखराज

             नवमेश —  मंगल  —   मूंगा

  1. कन्या — लग्नेश — बुध —   पन्ना

             पंचमेश  — शनि  —   नीलम

            नवमेश —  शुक्र —-    हीरा

  1. तुला — लग्नेश — शुक्र   —  हीरा

             पंचमेश  —  शनि  —  नीलम

            नवमेश —   बुध  —  पन्ना

  1. वृश्चिक — लग्नेश — मंगल —   मूंगा

              पंचमेश —   गुरु   — पुखराज

              नवमेश  —   चंद्र   —- मोती

  1. धनु — लग्नेश  —  गुरु   — पुखराज

             पंचमेश  — मंगल  —   मूंगा

              नवमेश —   सूर्य  —   माणिक्य

  1. मकर — लग्नेश — शनि  —  नीलम

              पंचमेश  —  शुक्र   —  हीरा

              नवमेश —   बुध  —    पन्ना

  1. कुम्भ — लग्नेश — शनि  —  नीलम

              पंचमेश  —   बुध   —  पन्ना

             नवमेश —   शुक्र   —  हीरा

  1. मीन — लग्नेश — गुरु   — पुखराज

              पंचमेश  —   चंद्र   —- मोती

              नवमेश   — मंगल  —  मूंगा

    7 ग्रहों को 2 गुटों  में विभक्त किया गया है . पहला गुट सूर्य गुट है ,जिसमें सूर्य ,चंद्र ,मंगल और गुरु हैं . दूसरा शनि गुट है ,जिसमें बुध ,शुक्र और शनि हैं .इसी को लग्नों में देखें .

1 . सूर्य गुट के लग्न – मेष लग्न ,कर्क लग्न ,सिंह लग्न ,वृश्चिक लग्न ,धनु लग्न और मीन लग्न .कुल 6 लग्न .

2 . शनि गुट के लग्न – वृष लग्न ,मिथुन लग्न ,कन्या लग्न ,तुला लग्न ,मकर लग्न और कुम्भ लग्न . कुल 6 लग्न .

  ध्यान रहे कि सूर्य गुट और शनि गुट आपस में शत्रुता रखते हैं . इसलिए दोनों गुट के रत्न एक साथ नहीं पहने जाते हैं .

           चंद्र राशि के अनुसार रत्न का निर्णय

      राशि                 ग्रह               रत्न

  1 . मेष  ——     मंगल    —–  मूंगा

  2 . वृष    —      शुक्र     —-  हीरा

  1.   मिथुन   —-   बुध    —   पन्ना

  4 . कर्क    —      चंद्र    —    मोती

  5 . सिंह   —       सूर्य    —   माणिक्य

  6 . कन्या  —      बुध   —     पन्ना

 7 . तुला   —       शुक्र     —-   हीरा

 8 . वृश्चिक  —     मंगल   —-    मूंगा

              9 .  धनु    —     गुरु    ——   पुखराज

      10 .  मकर  —     शनि    ——   नीलम

     11 .  कुम्भ  —    शनि    —-     नीलम

       12 .  मीन  —-     गुरु     ——-  पुखराज

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of